Home DIGITAL TRENDS Network Interface Card (NIC) Kya Hota Hai? पूरी जानकारी

Network Interface Card (NIC) Kya Hota Hai? पूरी जानकारी

कंप्यूटर के कई प्रकार के अलग-अलग Hardware होते हैं। जिसमें Network Interface Card का नाम भी शामिल है। यह एक प्रकार का कंप्यूटर का हार्डवेयर ही है। लेकिन इसे कंप्यूटर के साथ नहीं जोड़ा जा सकता है। यह एक अलग नेटवर्क से जुड़कर कंप्यूटर को चलाने का काम करता है।

Network Interface Card जिसे Computer का Hardware Component कहा जाता है। अधिकतर लोग अपने ऑफिशियल कार्य के लिए Ethernet लाइन का अभी के प्रयोग करते हैं और उसी को Network Interface Card कहा जाता है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको Network Interface Card kya hota hai? इसके बारे में डिटेल में जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

Network Interface Card kya hota hai?

नेटवर्क इंटरफेस कार्ड जिसे कंप्यूटर का एक Hardware घटक कहा जाता है। इसके बिना कंप्यूटर को Network से Connet नहीं किया जा सकता है। नेटवर्क से कनेक्ट करने के लिए Network Interface Card की आवश्यकता होती है। यह कंप्यूटर के Install सर्किट बोर्ड के साथ जुड़ा होता है। जो नेटवर्क कनेक्शन प्रदान करवाने का काम करता है। नेटवर्क इंटरफेस कंट्रोलर, नेटवर्क एडेप्टर, इथरनेट  के नाम से भी Network Interface Card को पहचाना जाता है।

नेटवर्क इंटरफेस कार्ड को rj-45 कनेक्टर के साथ Ethernet केबल के जरिए कनेक्ट किया जाता है। जो कंप्यूटर को नेटवर्क प्रदान करवाता है। इंटरनेट स्टैंडर्ड की लोकप्रियता बहुत अधिक है और अधिकतर कंप्यूटर में इसी का प्रयोग किया जाता हैः साथ ही साथ ही यह कम लागत के साथ कंप्यूटर में लगाया जा सकता है और बेहतरीन Speed के साथ इसका प्रयोग भी किया जा सकता है।

नेटवर्क इंटरफेस कार्ड का उद्देश्य

कंप्यूटर में प्रयोग किए जाने वाले Network Interface Card के द्वारा वायर के साथ और बिना वायर दोनों प्रकार के कम्युनिकेशन उपलब्ध करवाए जाते हैं।

नेटवर्क इंटरफेस कार्ड जो Local Area Network के साथ ही साथ Internet Protocol के माध्यम से भी बड़ी संख्या में हजारों कंप्यूटर को एक साथ Communication और नेटवर्क उपलब्ध करवाने की अनुमति देता है।

Network Interface Card फिजिकल लेयर और डाटा लिंक लेयर दोनों डिवाइस के जरिए हार्डवेयर सिक्योरिटी की प्रदान करता है। साथ ही साथ इंटरनेट भी प्रदान करवाता है।

NIC की फुल फॉर्म

यदि हम NIC की फुल फॉर्म की बात करें, तो एन आई सी का पूरा नाम Network Interface Card होता है जिसने फुल फॉर्म नीचे को जिस प्रकार से दी गई है

NIC Full Form In English: Network Interface Card

NIC Full Form In Hindi: नेटवर्क इंटरफेस कार्ड

नेटवर्क इंटरफेस कार्ड के प्रकार

कंप्यूटर में उपयोग किया जाने वाला नेटवर्क इंटरफेस कार्ड जो मुख्य रूप से दो प्रकार का होता है।

आंतरिक नेटवर्क कार्ड

यह इंटरनेट नेटवर्क कार्ड जो आंतरिक मदर बोर्ड का एक प्लॉट होता है। जिसे मदरबोर्ड के साथ कनेक्ट किया जाता है। इंटरनेट केबल के लिए सॉकेट मदरबोर्ड के साथ कनेक्ट हो जाता है। उसके पश्चात Ethernet  केबल के जरिए इंटरनेट कनेक्शन को सुचारू रूप से चलाया जा सकता है। आंतरिक नेटवर्क काट दो प्रकार के होते हैं। पहला पेरिफेरल कंपोनेंट इंटरकनेक्ट कनेक्शन है तो दूसरा इंडस्ट्री स्टैंडर्ड अर्कीटेक्टर कनेक्शन होता है।

बाहरी नेटवर्क कार्ड

इंटरनेट कनेक्ट करने के लिए कंप्यूटर में अंतरिक्ष इंटरनेट कार्ड के साथ-साथ बाहरी नेटवर्क कार्ड भी होते हैं। बाहरी नेटवर्क कार्ड जो कंप्यूटर में बाहर से लगाए जाते हैं। यह दो प्रकार के होते हैं। जैसेः वायरलेस वाईफाई या USB आधारित इंटरनेट कार्ड है। कंप्यूटर और लैपटॉप में इस प्रकार के Wireless Network को कनेक्ट करने के लिए मदरबोर्ड से जुड़ने के लिए कोई भी नेटवर्क केबल की आवश्यकता नहीं पड़ती है इस प्रकार के डिवाइस सिग्नल का प्रयोग करके कंप्यूटर से Automatically Connect हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें:-

Network Interface Card के घटक

नेटवर्क इंटरफेस कार्ड के अंदर घटक है। जिसकी जानकारी हम आपको नीचे प्रदान करवा रहे हैंः

Speed: नेटवर्क इंटरफेस कार्ड का सबसे पहला घटक स्पीड है और स्पीड की Rating के आधार पर नेटवर्क की बैंडविथ और कार्य क्षमता को प्रदर्शित किया जाता है। यह Bandwidth Network Interface Card से कम है जो कई कंप्यूटर में एक साथ जुड़ सकती है। आज के समय में स्पीड इंटरनेट के जरिए 10 एमबीपीएस से लेकर 1gbps तक संभव है।

ड्राइवर: यह कंप्यूटर का एक आवश्यक सॉफ्टवेयर होता है। जो नेटवर्क इंटरफेस कार्ड के द्वारा ही इंस्टॉल किया जाता है। कंप्यूटर की ऑपरेटिंग सिस्टम और नेटवर्क इंटरफेस कार्ड के बीच डाटा को ट्रांसफर करने का काम भी लिखा होता है। जिसे ड्राइवर सॉफ्टवेयर के नाम से भी जाना जाता है।

मैक पताः  यूनिक mac-address जिसको Network Interface Card के द्वारा ही सौंपा जाता है। यह एक प्रकार का फिजिकल नेटवर्क Address के रूप में भी पहचाना जाता है। जो कंप्यूटर पर इंटरनेट पैकेट वितरित करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

कनेक्टिविटी एलईडीः कंप्यूटर में नेटवर्क इंटरफेस कार्ड को एलईडी इंडिकेटर के माध्यम से कनेक्ट करके डाटा को प्रसारित करने का काम किया जाता है। उस समय यूजर को सूचित किया जाता है, कि इंटरनेट एकीकृत या कनेक्ट हो गया है।

राउटरः यह कंप्यूटर का Wairless कम्युनिकेशन उपकरण है। जो नेटवर्क इंटरफेस कार्ड से कनेक्ट होकर इंटरनेट से जुड़ा होता है और सिग्नल के माध्यम से कंप्यूटर और लैपटॉप को इंटरनेट प्रदान कराता है।

Network Interface Card के फायदे

  • इसका सबसे पहला फायदा कंप्यूटर और लैपटॉप को इंटरनेट से आसानी से Connect किया जा सकता है।
  • इसके जरिए Waired और Wairless दोनों उपकरण को कम्युनिकेशन किया जा सकता है।
  • NIC फिजिकल लेयर और इन को आपस में शेयर कर सकते है।
  • लोकल एरिया नेटवर्क के साथ-साथ Internet Protocol के जरिए अधिक संख्या में कंप्यूटर डिवाइस को एक साथ जोड़ने का काम करता है। जो मुख्य रूप से ऑफिस और कंपनी में प्रयोग होता है।

निष्कर्ष

कंप्यूटर का प्रयोग करना आज के समय में सभी लोगों के लिए बहुत ही जरूरी हो गया है। लेकिन कंप्यूटर को बिना इंटरनेट कोई भी व्यक्ति प्रयोग करना नहीं चाहेगा। इंटरनेट के प्रयोग के बिना आज की दुनिया अधूरी है। इंटरनेट का प्रयोग ही आज के लोगों के लिए एक होबि बन चुका है। कंप्यूटर में Network को Connect करने के लिए नेटवर्क इंटरफेस कार्ड की जरूरत पड़ती है। आज के इस आर्टिकल में हमने आपको Network Interface Card के बारे में डिटेल में जानकारी दी है। हमें उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित हुई होगी। यदि किसी व्यक्ति को इस आर्टिकल से जुड़ा हुआ कोई भी सवाल है, तो वह हमें कमेंट के जरिए बता सकता है। हम आपके सवाल का जवाब जल्द से जल्द देने का प्रयास करेंगे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments